59 साल बाद फिर दोहराएगा इतिहास, सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह जुपिटर आया पृथ्वी के बेहद नज़दीक

नई दिल्ली, अंतरिक्ष के क्षेत्र में रुचि रखने वाले लोगों के लिए ये एक अच्छी खबर है. सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह जुपिटर (Jupiter) पृथ्वी के बेहद करीब आ गया है. इसी के साथ 59 साल का इंतजार खत्म हो गया है.

इससे पहले 1963 में जुपिटर पृथ्वी के नजदीक आया था. वैसे कहा जाता है कि जूपिटर 59 साल में एक बार पृथ्वी के करीब आता है. जुपिटर आज शाम 5.29 बजे से आसमान में दिखाई देने लगा है और 27 सितंबर को सुबह 5.31 तक दिखाई देगा. आसमान में जुपिटर -2.9 मैग्नीट्यूड के साथ बेहद चमकीला दिखाई दे रहा है. 53 चंद्रमाओं वाला यह ग्रह रात भर आसमान में रहेगा.

जूपिटर अपनी कक्षा में सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाता है. मगर एक पॉइंट ऐसा होता है, जब वह पृथ्वी से दिखाई देने वाले सूर्य के विपरीत दिशा में पहुंचता है. सोमवार को उस स्थिति में पहुंचने के अलावा सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह जुपिटर इतने साल बाद पृथ्वी के सबसे नजदीक आया है. जुपिटर, पृथ्वी से 59,06,29,248 किलोमीटर की दूरी पर है. ऐसा फिर 107 साल बाद होगा.

107 साल बाद फिर होगा ऐसा

वहीं, अगली बार जब जूपिटर, पृथ्वी के नजदीक आएगा तो वो साल होगा 2129. अभी 2022 चल रहा है यानी 107 साल बाद. इस लिहाज से जूपिटर के पृथ्वी के नजदीक आने की घटना वाकई अंतरिक्ष के क्षेत्र में रुचि रखने वालों के लिए यादगार होगा. इस नजारा को देखने के लिए आप अच्छे दूरबीन या टेलीस्कोप की मदद लें सकते हैं और इसके गैलीलियन उपग्रहों को भी देख सकते हैं. जानकारी के लिए बता दें कि जुपिटर (बृहस्पति) हमारे सौर मंडल का पांचवा और सबसे बड़ा ग्रह है.

Related Posts

Cricket

Panchang

Gold Price


Live Gold Price by Goldbroker.com

Silver Price


Live Silver Price by Goldbroker.com

मार्किट लाइव

hi Hindi
X