स्मृति ईरानी के राहुल गांधी पर दिए गए बयान से बीजेपी बैकफुट पर, पार्टी नेताओं ने साधी चुप्पी,काँगेस हुई हमलावर

नई दिल्ली, केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने राहुल गांधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ पर हमला करते हुए कहा था कि उन्होंने कन्याकुमारी में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति को प्रणाम तक नहीं किया.

राहुल गांधी ने पिछले हफ़्ते तमिलनाडु के कन्याकुमारी से ही भारत जोड़ो यात्रा की शुरुआत की थी. 2024 के अगले लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के इस जनसंपर्क अभियान को काफ़ी अहम माना जा रहा है.

यह यात्रा 12 राज्यों और दो केंद्रशासित प्रदेशों से होकर गुज़रेगी और कुल 3,700 किलोमीटर की दूरी तय करेगी. 150 दिनों में यह यात्रा पूरी करने की योजना है.

स्मृति इरानी ने दावा किया कि राहुल गांधी ने कन्याकुमारी से भारत जोड़ो यात्रा की शुरुआत के दौरान स्वामी विवेकानंद की मूर्ति को प्रणाम नहीं किया, मगर बाद में पाया गया कि उनका ये दावा ग़लत था.

राहुल गांधी ने स्वामी विवेकानंद को श्रद्धांजलि देने के बाद ही यात्रा की शुरुआत की थी. स्मृति इरानी के दावे का वीडियो फुटेज, और राहुल गांधी की ओर से स्वामी विवेकानंद को कन्याकुमारी में श्रद्धांजलि देने का वीडियो एक साथ सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा.कांग्रेस ने स्मृति इरानी को आड़े हाथों लिया और कहा कि लोग बेशर्मी से झूठ बोल रहे हैं.

 

स्मृति इरानी ने कहा था, ”मैं कांग्रेस पार्टी से पूछना चाहती हूँ. आप कहते हैं कि भारत को जोड़ने की यात्रा कर रहे हैं. अरे अगर कन्याकुमारी से चले तो कम से कम इतनी निर्लज्जता तो नहीं दिखाते. स्वामी विवेकानंद को प्रणाम करके तो बताते. लेकिन राहुल गांधी को यह भी स्वीकार्य नहीं है क्योंकि स्वामी विवेकानंद जी राष्ट्र संत हैं, नामी खानदान के सदस्य नहीं.” स्मृति इरानी ने यह बात कर्नाटक में बीजेपी की सरकार के तीन साल पूरे होने के मौक़े पर पार्टी के एक कार्यक्रम में कही थी.

कांग्रेस पार्टी के संचार विभाग के प्रभारी जयराम रमेश ने स्मृति इरानी के आड़े हाथों लेते हुए कहा, ”सात सितंबर शाम में तीन बजे राहुल गांधी जी कहाँ थे? हमने इसे दिखाया है. राहुल गांधी किसके स्मारक में थे? स्मृति इरानी को अगर नया चश्मा चाहिए तो मैं वो देने के लिए तैयार हूँ.”

जयराम रमेश ने कहा, ”बीजेपी झूठ की फैक्ट्री चला रही है. बीजेपी के लोग यात्रा के बारे में झूठ फैला रहे हैं. यात्रा को मिल रहे व्यापक जनसमर्थन से ये लोग डरे हुए हैं. कुछ मंत्रियों से हम झूठ के अलावा उम्मीद भी नहीं कर सकते. हम इतने निचले स्तर पर जाकर टी-शर्ट, जूते, मोजे और अंडरवियर पर बहस नहीं कर सकते.”

जयराम रमेश ने कहा, ”वह घोटाले में बुरी तरह से फँसी हुई हैं. सारे तथ्य सामने आए हैं. हमारे प्रधानमंत्री की तरह किसी को सच बोलने की आदत नहीं है. प्रधानमंत्री की बीमारी कैबिनेट सहयोगियों में भी फैल गई है.”

भारत जोड़ो यात्रा के संयोजक और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी ट्वीट कर स्मृति इरानी को निशाने पर लिया. दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा है, ”स्मृति इरानी आप इतना झूठ बोलेंगी मुझे उम्मीद नहीं थी. संघियों की संगत में आप भी बदल गईं. माफ़ी माँगो. मैं स्वयं उस समय कन्याकुमारी में था.”

बीजेपी ने स्मृति इरानी के दावे पर अब तक चुप्पी साध रखी है. स्मृति इरानी उत्तर प्रदेश के अमेठी से सांसद हैं. उन्होंने 2019 के आम चुनाव में राहुल गांधी को अमेठी से हराया था.

Related Posts

Cricket

Panchang

Gold Price


Live Gold Price by Goldbroker.com

Silver Price


Live Silver Price by Goldbroker.com

मार्किट लाइव

hi Hindi
X