उत्तर प्रदेश में वज्रपात से चार लोगों की हुई मौत, मौसम विभाग ने जताई आंधी और गरज चमक के साथ मूसलाधार बारिश की आशंका

लखनऊ, सावन में बारिश का आगाज हो चुका है। तापमान में गिरावट दर्ज की गई है और गर्मी से भी राहत मिल रही है। वहीं, पूर्वांचल के चार जिलों में वज्रपात से चार लोगों की मौत हो गई।

इसमें बलिया और कौशांबी में दो-दो, गाजीपुर व मऊ में एक-एक लोगों की जान गई है। राजस्व टीम ने मृतकों के परिवार से संपर्क कर सरकारी मदद मुहैया कराने का भरोसा दिया है।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान में शुक्रवार को आंधी और गरज चमक के साथ मूसलाधार बारिश होने की संभावना जताई है। साथ ही, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों में भारी वर्षा के लिए चेतावनी जारी की गई है। लखनऊ और आसपास के जिलों में बदली रह सकती है और कुछेक जगहों पर बारिश हो सकती है। अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस के आसपास रह सकता है।

बलिया के रेवती के गोपालनगर गांव में गुरुवार को दोपहर में खेत से भैंस चराकर लौट रहे उमेश साहनी की वज्रपात की चपेट में आने से मौके पर ही मौत हो गई। उधर, बैरिया के गोपालनगर निवासी उमेश साहनी की मौत वज्रपात से हो गई। बलिया के ही चितबड़ागाव क्षेत्र निवासी मृत्युंजय तिवारी सुरवत गांव में अपने फूफा रवींद्रनाथ पांडेय के घर रहकर पढ़ाई करता था। वर्षा के दौरान खेत में मेढ़ बांधने गया था। सुबह आकाशीय बिजली की चपेट में आकर झुलस गया। मऊ अस्तपाल में उसकी मौत हो गई। मऊ के चकबख्सुपुर में खेत में रोपाई करने के बाद दरवाजे पर आराम कर रहे युवक ओमप्रकाश की वज्रपात की चपेट में आने से मौत हो गई है।

कौशांबी के मंझनपुर के रामपुर मड़ूकी फैजूपुर निवासी श्याम कली गांव की ही मनोजा देवी के साथ बुधवार शाम धान की रोपाई के लिए गई थी। इस बीच अचानक वज्रपात हुआ। इसकी चपेट में आकर श्यामकली की मौत हो गई। मनोजा को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जिले के महेवाघाट के घोघ का पूरा निवासी राजकुमारी, खुशबू, प्रियंका और संगीता मवेशी चराने बुधवार शाम खेत की तरफ गई थी। इस बीच वर्षा होने लगी तो चारों बबूल के पेड़ के नीचे खड़े हो गईं। अचानक वज्रपात से चारों चपेट में आ गईं। राजकुमारी ने मौके पर दम तोड़ दिया। गंभीर रूप से झुलसी खुशबू, प्रियंका और संगीता को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

आसमान में धनात्मक और ऋणात्मक आवेशित बादल उमड़ते-घुमड़ते हुए जब एक-दूसरे के पास आते हैं तो टकराने (घर्षण) से उच्च शक्ति की बिजली उत्पन्न होती है। इससे दोनों तरह के बादलों के बीच हवा में विद्युत-प्रवाह गतिमान हो जाता है। विद्युत-धारा प्रवाहित होने से रोशनी की तेज चमक पैदा होती है। ट्रफ लाइन के पास वज्रपात की आशंका अत्यधिक होती है।

Related Posts

Cricket

Panchang

Gold Price


Live Gold Price by Goldbroker.com

Silver Price


Live Silver Price by Goldbroker.com

मार्किट लाइव

hi Hindi
X