अब बच्चे को चांटा मारना हुआ गैर कानूनी, ऐसा करना माना जायेगा जुर्म, जानिए कहां बना ऐसा कानून

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

नई दिल्ली, शैतान बच्चों को सुधारने के लिए अक्सर माता-पिता उनकी पिटाई कर देते हैं. लेकिन अब ऐसा करने जुर्म माना जाएगा और इसके लिए कानून में सजा का प्रावधान भी रखा गया है. अब बच्चे को चांटा मारना गैर कानूनी हो गया है और ऐसा करने पर सजा भी मिल सकती है।

होली मनाकर लौटते समय कार सड़क पर खराब खड़े ट्रक में पीछे घुसी, पिता-पुत्री समेत तीन की मौत

‘द सन’ की खबर के मुताबिक वेल्स में सोमवार से बच्चों को थप्पड़ मारना गैर कानूनी हो गया है. स्थानीय चिल्ड्रन एक्ट के मुताबिक बच्चे को किसी भी तरह की शारीरिक सजा देना जुर्म है. बच्चों को भी वयस्कों की तरह अपनी सुरक्षा के लिए बराबर अधिकार दिए गए हैं और ऐसा करने वाले के खिलाफ उचित सजा का भी प्रावधान है।

133 लोगों को ले जा रहा चाइना ईर्स्टन एयरलाइंस का बोइंग 737 विमान हुआ क्रैश, चीन में हुआ बड़ा विमान हादसा

यह कानून न सिर्फ देश में बसने वाले बल्कि वेल्स में आने वाले हर किसी शख्स पर लागू होगा. वेल्स अब उन 60 देशों की लिस्ट में आ गया है जिसने बच्चों की सुरक्षा के लिए ऐसा कानून बनाया है. मंत्री मार्क डार्कफोर्ड ने कहा कि अब इसे लेकर एकदम साफ रुख रखने की जरूरत है और अतीत में जो भी हुआ उससे आगे बढ़ना चाहिए. उन्होंने कहा कि मॉर्डन वेल्स में शारीरिक सजा के लिए कोई जगह नहीं है।

ऑस्‍ट्रेलियाई समकक्ष स्‍कॉट मॉरीसन के साथ वर्चुअल द्विपक्षीय शिखर वार्ता करेंगे भारत के प्रधानमंत्री मोदी

स्कॉटलैंड ने नवंबर 2020 में ही बच्चों की शारीरिक सजा को पूरी तरह से बैन कर दिया था. इंग्लैड में मां-बाप बच्चे को थप्पड़ तो मार सकते हैं, लेकिन उससे चोट, सूजन या खरोच नहीं आनी चाहिए. अगर बच्चे के शरीर पर कोई भी ऐसा प्रभाव दिखाई देता है तो संबंधित माता-पिता के खिलाफ कानूनी एक्शन लिया जा सकता है।

 

दिल्ली से दोहा जाने वाली फ्लाइट (QR579) अचानक कराची डायवर्ट, 100 से ज्यादा यात्री सवार

इस कानून के साथ वेल्स में भी इसी तरह के कुछ अपवाद भी लागू किए गए हैं. इसमें बच्चे को सजा देने के वक्त उसकी उम्र, पीटने का तरीका और शरीर पर चोट के किसी निशान को भी ध्यान में रखा जाएगा. वेल्स में सोशल सर्विस डिपार्टमेंट के डिप्टी मिनिस्टर ने कहा कि बच्चों और उनके अधिकारों को ध्यान में रखते हुए लिया गया यह फैसला ऐतिहासिक है।

चुनाव खत्म महंगाई चालू : डीजल कीमतों में 25 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी, थोक उपभोक्ताओं को लगा झटका

दुनिया में सबसे पहले साल 1979 में स्वीडन में बच्चों के लिए ऐसा कानून लाया गया था. स्कूलों में शारीरिक सजा देने के खिलाफ भी 117 देशों में कानून लागू है. अमेरिका और अफ्रीकी और एशिया के कई देशों में माता-पिता की ओर से बच्चों को शारीरिक सजा देने के खिलाफ कोई कानून नहीं है।

होली में हुड़दंग, तेज़ रफ़्तार से जा रही ऑटो में रंग भरा गुब्बारा फेंकने से पलटी, कई लोग घायल

Related Posts

Cricket

Panchang

Gold Price


Live Gold Price by Goldbroker.com

Silver Price


Live Silver Price by Goldbroker.com

मार्किट लाइव

hi Hindi
X